संस्थागत

Page Updated On : 11/05/2016 - 06:33:05

 

संस्थागत
परियोजना/उप परियोजना का शीर्षकप्रधान अन्वेषकसह-प्रधान अन्वेषकएसोसिएट
परियोजना 1 : पादप जीनों और प्रमोटरों का विगलन प्रो. श्रीनिवासन  
उप परियोजना 1 : प्रमोटरों और जीनों का विलगन व लक्षण-वर्णन प्रो. श्रीनिवासनडॉ. पी.के.जैन डॉ. रेखा कंसल (एनआरसीपीबी)
उप परियोजना 2 प्रतिरोधी पराजीनी ब्रैसिका जुंसिया पौधों में कवक (आल्टरनेरिया) के विकास के लिए रोगजनक - उत्प्रेरणशील जीनों व प्रमोटरों की पहचान व उनका उपयोग डॉ. अनिता ग्रोवरडॉ. रेखा कंसल, श्रीमती संध्या (एनआरसीपीबी) डॉ. प्रतिभा शर्मा (पादप रोगविज्ञान संभाग, भा.कृ.अ.सं.)
उप परियोजना 3 : सरसों में फलियों से कीटनाशी जीनों का क्लोनीकरण, सत्यापन और लक्षण-वर्णन डॉ. रेखा कंसलडॉ. टी.आर. शर्मा डॉ. अनिता ग्रोवर डॉ. पी.के. जैन (एनआरसीपीबी) डॉ. अर्चना सचदेव (जैव रसायनविज्ञान संभाग), भा.कृ.अ.सं.
उप परियेाजना 4 : चने में प्रतिबल अनुक्रियाशील जीनों/प्रमोटरों का विलगन और लक्षण-वर्णन डॉ. पी.के. जैनप्रो. श्रीनिवासन, डॉ. रेखा कंसल (एनआरसीपीबी) डॉ. सी. भारद्वाज (आनुवंशिकी संभाग, भा.कृ.अ.सं.)
उप परियोजना 5 : चावल के जीवाण्विक पत्ती झुलसा प्रतिरोध के साथ-साथ रोग के आण्विक निर्धारकों का क्लोनीकरण और लक्षण-वर्णन डॉ. ऋतु रायडॉ. किशोर गायकवाड (एनआरसीपीबी) डॉ. ए.के.सिंह, आनुवंशिकी संभाग, भा.कृ.अ.सं.
उप परियोजना 6 अरहर का वंध्यता चित्ती विषाणु, लक्षण-वर्णन और उसका नियंत्र्ण डॉ. बी.एल. पाटिलप्रो. श्रीनिवासन (एनआरसीपीबी) डॉ. आर.के. जैन (पादप रोग विज्ञान संभाग, भा.कृ.अ.सं.), डॉ. मनीष मिश्रा (सीआईएसएच, लखनऊ)
परियोजना 2 : ब्रैसिका की उत्पादकता बढ़ाने के लिए जैवप्रौद्योगिकीय युक्तियांडॉ. एस.आर. भट्रट  
उप परियोजना 1 संकर ओज प्रजनन के लिए आनुवंशिक स्टॉकों का सृजन तथा लक्षण-वर्णन डॉ. एस.आर. भट्रटडॉ. एन.सी. गुप्ता श्री महेश राव श्रीमती सीमा डार्गन (एनआरसीपीबी)
उप परियोजना 2 : पुनर्संश्लेषण के माध्यम से ब्रैसिका जुंसिया के आनुवंशिक पूल को बढ़ाना और जंगली प्रजातियों से समाहन श्री महेश रावडॉ. एस. आर. भट्रट डॉ. एन.सी. गुप्ता श्रीमती सीमा डार्गन (एनआरसीपीबी)
उप परियोजना 3 : ब्रैसिका जुंसिया में बीज का आकार और तेल अंश बढ़ाने के लिए जीनों की पहचान व पराजीनियों का विकास डॉ. एन.सी. गुप्ताडॉ. एस.आर. भट्रट, श्री महेश राव, श्रीमती सीमा डार्गन (एनआरसीपीबी)
उप परियोजना 4 : सरसों में उपज बढ़ाने के लिए पादप हार्मोन मॉड्यूलेशन डॉ. प्रशांत दाश 
परियोजना 3 : फसल पौधों में जीनोमिक्स और आण्विक मार्करडॉ. एन.के. सिंह  
उप परियोजना 1 : उपयोगी जीनों/मार्करों की पहचान के लिए चावल, गेहूं और अरहर में कार्यात्मक जीनोमिक्स डॉ. एन.के. सिंहडॉ. टी.आर. शर्मा, डॉ. किशोर गायकवाड डॉ. वंदना राव डॉ. अमिता मित्र (एनआरसीपीबी) डॉ. ए.के. सिंह, डॉ. आर.एस. राजे (आनुवंशिकी संभाग, भा.कृ.अ.सं.)
उप परियोजना 2 : जीनोमिक्स तथा जैव सूचना विज्ञान युक्तियों का उपयोग करके पादप रोग प्रतिरोधी जीनों/युग्म विकल्पियों का क्लोनीकरण और लक्षण-वर्णन डॉ. टी. आर. शर्माडॉ. एन.के. सिंह, डॉ. किशोर गायकवाड, डॉ. रामावाटर नगर (एनआरसीपीबी) डॉ. ए.के. सिंह (आनुवंशिकी संभाग, भा.कृ.अ.सं.) डॉ. यू.डी.सिंह (पादप रोगविज्ञान संभाग, भा.कृ.अ.सं.)
उप परियोजना 3 :  उपज संबंधी गुणों के कार्यात्मक जीनोमिक्स के लिए अरहर और आम में जीनोमी तथा एपिजीनोमी संसाधनों का सृजन   डॉ. किशोर गायकवाड़डॉ. एन.के. सिंह (एनआरसीपीबी) डॉ. आर.एस. राजे (आनुवंशिकी संभाग, भा.कृ.अ.सं.) डॉ. निमिषा शर्मा (औद्यानिकी संभाग, भा.क.ृअ.सं.) डॉ. ए.आर. राव (आई ए एस आर आई)
उप परियोजना 4 : चावल की प्रतिबल सहिष्णु भूप्रजातियों व वन्य चावल जननद्रव्य में लवण तथा जलमग्नता के प्रति सहिष्णुता के लिए जीनों का युग्मविकल्पी खनन डॉ. वंदना रायडॉ. एन.के. सिंह डॉ. किशोर गायकवाड (एनआरसीपीबी) डॉ. ए.के. सिंह (आनुवंशिकी संभाग, भा.कृ.अ.सं.) डॉ. बृजेन्द्र (डीआरआर)
उप परियोजना 5 : लक्षित प्रजनन के लिए उपज में योगदान देने वाले गुणों के मूल्यांकन और सत्यापन हेतु चावल, गेहूं और अरहर का गुण-प्ररूपण डॉ. आर.आर. जाटडॉ. एन.के. सिंह डॉ. किशोर गायकवाड डॉ. अमिता मित्र (एनआरसीपीबी)
उप परियोजना 6 : चावल में अजैविक प्रतिबल सहिष्णुता के लिए क्यूटीएल का मानचित्र्ण   डॉ. अमिता मित्रडॉ. एन.के. सिंह (एनआरसीपीबी डॉ. एस. गोपालकृष्णन (आनुवंशिकी संभाग, भा.कृ.अ.सं.) डॉ. सी. विश्वनाथ (पादप कार्यिकी संभाग, भा.कृ.अ.सं.)
उप परियोजना 7 : चावल- राइजोक्टोनिया अंतरक्रिया में पादप रक्षा अनुक्रिया में शामिल छोटे आरएनए का अभिव्यक्ति विश्लेषण   डॉ. रामावतार नागरडॉ. टी.आर. शर्मा डॉ. एन.के. सिंह, श्री उप्रेती (एनआरसीपीबी), डॉ. यू.डी. सिंह (पादप रोगविज्ञान संभाग, भा.क.ृ.अ.सं.)
उप परियोजना 8 : चावल में कंठ प्रध्वंश प्रतिरोध के लिए जीनों/क्यूटीएल का आण्विक मानचित्र्ण श्री ए. दीनबंधुडॉ. टी.आर. शर्मा डॉ. एन.के. सिंह (एनआरसीपीबी)
परियोजना 4 : जैविक प्रतिबल प्रतिरोध के लिए पराजीनी फसलेंडॉ. सर्वजीत कौर  
उप परियोजना 1 : कीट प्रतिरोध के लिए नए बीटी जीन और प्रौद्योगिकियां डॉ. सर्वजीत कौरश्री रोहित चमोला, (एनआरसीपीबी)
उप परियोजना 2 : वीआईपी और आरएनएआई द्वारा चने के फली बेधक का प्रबंध डॉ. देबाशीष पटनायकडॉ. रोहिणी, डॉ. ए.यू. सोलंके (एनआरसीपीबी)
उप परियोजना 3 :  सरसों में आण्विक यांत्रिकियों की खोज तथा माहू प्रतिरोध के विकास में उनका उपयोग डॉ. आर.सी. भट्टाचार्यडॉ. रेखा कंसल डॉ. किशोर गायकवाड (एनआरसीपीबी)
उप परियोजना 4 : बीटी आईसीपी के द्वारा चना फली बेधक का प्रबंध डॉ. रोहिणी श्रीवत्सडॉ. देबाशीष पटनायक डॉ. ए.यू. सोलंके (एनआरसीपीबी)
उप परियोजना 5 :  कीट प्रतिरोधी फसलों में उपयोग के लिए ऊतक विशिष्ट/उत्प्रेरणशील जीनों का जीनोमिक्स डॉ. ए.वी. सोलंकेडॉ. देबाशीष पटनायक डॉ. रोहिणी (एनआरसीपीबी)
परियोजना 5 : जलवायु परिवर्तन से प्रेरित अजैविक प्रतिबलों के प्रति गेहूं का अनुकूलनडॉ. जे.सी. पडारिया  
उप परियोजना 1 : गेहूं में ताप सहिष्णुता के लिए उच्च तापमान प्रतिबल के प्रति अनुक्रियाशील जीनों का क्लोनीकरण और लक्षण-वर्णन डॉ. जे.सी. पडारियाडॉ. मोनिका दलाल, सुनीता श्रीवास्तव (एनआरसीपीबी) डॉ. तारा सत्यवती डॉ. जी.पी. सिंह (आनुवंशिकी संभाग, भा.कृ.अ.सं.)
उप परियोजना 2 : उच्च तापमान प्रतिबल के अंतर्गत गेहूं में दाना भरने के दौरान चयापचयजी प्रोफाइलिंग डॉ. सर्मिष्ठा बड़ठाकुरडॉ. पी.के. मण्डल (एनआरसीपीबी) डॉ. ए.एम. सिंह (आनुवंशिकी संभाग, भा.कृ.अ.सं.)
उप परियोजना 3 :  एजिलॉप्स प्रजाति से ताप सहिष्णु जीनों का विलगन डॉ. कनिका 
उप परियोजना 4 :  गेहूं के सूखा और लवण प्रतिबल के प्रति अनुक्रियाशील जीनों का क्लोनीकरण और लक्षण-वर्णन डॉ. मोनिका दलालडॉ. पी.के. मंडल (एनआरसीपीबी) डॉ. सी. विश्वनाथन (पादप कार्यिकी संभाग, भा.कृ.अ.सं.)
परियोजना 6 : धान्य फसलों में पोषक तत्व उपयोग की दक्षता में सुधारडॉ. पी.के. मंडल  
उप परियोजना 1 : गेहूं में नाइट्रोजन उपयोग दक्षता का जैवरसायनविज्ञानी एवं आण्विक आधार डॉ. पी.के मंडलडॉ. एस.के. सिन्हा, डॉ. मोनिका दलाल (एनआरसीपीबी) डॉ. के. वेंकटेश (डीडब्ल्यूआर), करनाल
उप परियोजना 2 : गेहूं में नाइट्रोजन चयापचयन में सूक्ष्म आरएनए की संभावित विनियमनकारी भूमिका का अध्ययन डॉ. एस.के. सिन्हाडॉ. पी.के. मंडल (एनआरसीपीबी) डॉ. के. वेंकटेश (डीब्ल्यूआर, करनाल)
उप परियोजना 3 : आनुवंशिक रूप से रूपांतरित सूक्ष्मजीवों के माध्यम से अनाज फसलें उगाने के लिए रासायनिक नाइट्रोजनी उर्वरकों के उपयोग में कमी लाना डॉ. संजय सिंहश्री आर.एस. जाट डॉ. एच.के. दास (एनआरसीपीबी